जब कभी ओ अकेले बजार जाति थी
तो मेरे लिए एक बहुत स्वादिस्ट चकलेट जरुर ले आया करतिथी
कुछ साल बाद चकलेट कि जगह
च्यवनप्रास आना सुरु हुआ
कुछ साल बाद फिर च्यवनप्रास कि जगह
सिलाजित ने लिया ।

समय ठिकठाक हि कट रहा था
सिलाजित कड्वी लगती थी
फिरभी मै चुपचाप ले रह था

कुछ साल बाद फिर सिलाजित भी बन्द हो गया
उसकी जगह कुछ भी नही आया ।

मैने उनसे पुछा ये क्या हो रहा है
ओ बोली “अब आप बुढे हो गए हो,
सब प्रयास बेकार जा रहा हैँ
यिसिलिए आपके लिए कुछ भी नही आ रहा है ।

मै शर्मायासा चुप रहा
कुछ साल बाद फिर चकलेट आना सुरु हुआ
मैने मुस्कुराके पुछा अब ये क्या हो रहा है
ओ बोली “आपको डायबेटीज हो गया है,
डाक्टरका नयाँ रिपोर्ट आया हैँ ।

बत्तिसपुतली, काठमाडौं